Gandhak Rasayan Benefits Side Effects And Uses In Hindi

By | August 5, 2018

Gandhak Rasayan Benefits Side Effects And Uses In Hindi

दोस्तों आज हम बात करेंगे Gandhak Rasayan के बारे में .Gandhak Rasayan बहुत सारा स्किन disease में उसे किया जाता है .यदि आपको fungal , eczema इन्फेक्शन है तो आप इसे उसे कर सकते हैं .कुछ लोगो को fungal and eczema होता है तो यह बहुत सारा मेडिसिन खाते हैं तो उनको लगता है की कम असर कर रहा है तो उसी  time आप इसे भी साथ में लीजिये .

Patanjali Baidyanath Gandhak Rasayan Price

इसे आप खुद भी बना सकते हैं लिकिन खुद बनाना काफी time बहुत मुस्किल्होजता है इसीलिए आप इसे patanjali , बैद्यनाथ company से बी करे .यह भी आपको सुध products provide करते हैं लिकिन price में थोडा अंतर होता है .आप किसी भी ब्रांड का लेते हैं तो आपको 50 gm को 50 rupees के अन्दर मिलजायेगा .

यह सात धातु को शुद करता है .sulphur को gandhak कहेते हैं .पुराने time में इसे गोला बारूद में उसे किया जाता है कियुनकी यह आग को बहुत जल्दी पकड़ता है इसीलिए इसे गोला बारूद में उसे किया जाता था  .

Composition Of Gandhak Rasayan

इसे बनाने में इसे पहले cow milk से पहेले सुध किया जाता है उसके बाद इसमें तेज़ पोता , दाल चीनी ,त्रिफला ,नागकेसर  , हरी एल्लैची यह सभी को मिलाकर 8 दिन घोटना पड़ता है . इसे मिलाने से पहेले यह बहुत ही गर्म होता है लिकिन जब इसे सुध किया जाता है उसके बाद यह इतना ठंडा होजाता है की इसे बॉडी में गर्मी को कम करने में उसे किया जाता है .बॉडी के गर्मी के कारण आपको खुजली होता है .

Benefits Of Gandhak Rasayan

यह बॉडी में से toxic को निकालने में use किया जाता है .

धातु रोग , प्रमेह रोग में इसका इस्तेमाल किया जाता है .

इसे लेने से आपका खून साफ़ होता है .

कुल मिलाकर इसे लेने से आपका चर्म रोगों ख़तम होता है .और साथ में कुछ अन्य रोग भी ख़तम होता है .

Dosage Of Gandhak Rasayan

इसे अप्प सुबह साम 1-1 गोली ली जाती है .जिन्हें बात रोग होता है उन्हें यह दूध के साथ दीजिये नही तो आप नार्मल पानी से ले सकते हैं .

Side Effects Of Gandhak Rasayan

साइड इफेक्ट्स की बात कर्ण तो इसमें किसी भी टाइप का साइड एफ्फ्सट्स नही होता है कियुनकी यह पूरी तरह आयुर्वेदिक product है .

Conclusion

तो मेरा कहेना यह है की इसे आप स्किन disease and अन्य कुछ disease जैसे मेने बताया वह इस्ति में ले सकते हैं .

यदि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा तो इसे शेयर करना मत भूलना .

panchatikta

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *